कार न रोकने पर सिपाही ने Apple के मैनेजर को मारी गोली, हुई मौत

      टिप्पणी बन्द कार न रोकने पर सिपाही ने Apple के मैनेजर को मारी गोली, हुई मौत में
Fawn news joining link
Vivek Tiwari

लखनऊ के पॉश एरिया माने जाने वाले गोमतीनगर में उस समय हड़कंप मच गया जब पुलिस की चेकिंग के दौरान कार न रोकने पर सिपाही ने फायर झोंक दिया, जिससे कार सवार युवक को गोली लग गई और उसने अस्पताल में दम तोड़ दिया। इस घटना से पुलिस महकमे में खलबली मच गई। सूचना मिलते ही मौके पर आला-अधिकारी पहुंचे और घटनास्थल का मुआयना किया।

घटना देर रात करीब डेढ़ बजे की है। युवक की पहचान एपल कंपनी के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी के रूप में हुई है। कार में विवेक के साथ सना खान नामक युवती भी थी। विवेक आईफोन की लॉन्चिंग करके लौट रहे थे। सना ने बताया कि सीएमएस गोमतीनगर विस्तार के पास उनकी गाड़ी खड़ी थी, तभी सामने से दो पुलिसवाले आए। इन्होंने बचकर निकलने की कोशिश की। सना का आरोप है कि इस दौरान कॉन्स्टेबल ने बाइक दौड़ाकर विवेक के गले में गोली मार दी।

Vivek tiwari murder in lucknow

एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक 2 पुलिसवालों ने विवेक को रोकने की कोशिश की तो वह नहीं रुके और कॉन्स्टेबल ने गोली चला दी। उनकी कार अंडरपास के पिलर से टकरा गई और विवेक को गहरी चोट आई। पुलिस उसे अस्पताल ले गई जहां देर रात उसकी मौत हो गई।

उन्होंने बताया कि विवेक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। आरोपी कॉन्स्टेबल को गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही गोमतीनगर थाने में कॉन्स्टेबल के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है।

विवेक की पत्नी कल्पना ने कहा, ”यह हादसा नहीं है। पुलिस ने विवेक की हत्या की। वे अपनी गलती छिपाने के लिए बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं। मुझे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जवाब चाहिए। आखिर मेरे पति को क्यों मारा गया।”

विवेक के रिश्तेदार विष्णु शुक्ला ने कहा कि विवेक आतंकवादी नहीं था। अगर उसने कुछ गलत किया था तो पुलिस उसे गिरफ्तार कर सकती थी। हम चाहते हैं कि इस मामले की सीबीआई जांच हो।


वहीँ, यूपी पुलिस के सिपाही प्रशांत चौधरी का कहना है की विवेक ने उस पर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की और फिर उसने आत्मरक्षा में गोली चलाई।