मानसिक बीमारियों को भी कवर करेंगी मेडिकल इश्योरेंस कंपनियां

      टिप्पणी बन्द मानसिक बीमारियों को भी कवर करेंगी मेडिकल इश्योरेंस कंपनियां में
Fawn news joining link
Mental illness

इंश्योरेंस सेक्टर के नियम-कायदे तय करनेवाली संस्था इंश्योरेंस रेग्युलेटरी ऐंड डिवेलपमेंट अथॉरिटी (IRDA) ने इंश्योरेंस कंपनियों को मानसिक बीमारी को भी मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी में कवर करने को कहा है। इरडा ने स्पष्ट किया है कि मानसिक बीमारी को भी शारीरिक बीमारियों की तरह ही माना जाए। इसे संस्था की ओर से मानसिक बीमारियों से जुड़े मिथकों और हीन भावनाओं को मिटाने की तरफ बढ़ाए गए एक कदम के तौर पर देखा जा रहा है।

IRDA ने एक सर्कुलर जारी करके कहा कि इंश्योरेंस कंपनियां को मानसिक बीमारियों से जूझ रहे लोगों के लिए जल्द से जल्द मेडिकल इंश्योरेंस का प्रविजन बनाए। वैश्विक स्तर पर कंपनियां मानसिक बीमारियां 2-3 साल के इंतजार के बाद कवर करती हैं। IRDA मेंटल हेल्थकेयर ऐक्ट 2017 का अनुसरण करता है। इस ऐक्ट के सेक्शन 21 (4) के अनुसार हर इंश्योरेंस कंपनी को शारीरिक बीमारियों की तरह ही मानसिक बीमारियों के इलाज के लिए मेडिकल इंश्योरेंस के प्रावधान बनाने चाहिए।

मेंटल हेल्थकेयर ऐक्ट 2017 29 मई, 2018 से प्रभावी हुआ था। इसके अनुसार मेंटल हेल्थकेयर में एक व्यक्ति की मानसिक स्थिति का अनैलेसिस और डायग्नोसिस शामिल होता है। साथ ही इसमें उनका इलाज और पुनर्वासन भी जुड़ा होता है।